ग्रीन सिंहस्थ में स्वैच्छिक संगठनों की भूमिका

Simhastha-Loboउज्जैन में 22 अप्रैल से 21 मई तक होने वाले सिंहस्थ को ग्रीन सिंहस्थ का रूप देने के लिये जन-अभियान परिषद ने 13 फरवरी से उज्जैन से पंच-महाभूत संवर्धन साक्षरता यात्रा शुरू की है। यात्रा 18 फरवरी तक 250 गाँव में पहुँचेगी। यात्रा में शामिल स्वयंसेवक ग्रामीणों को आकाश, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी पंच-तत्व के महत्व की जानकारी देंगे। यात्रा का शुभारंभ उज्जैन के चिन्तामन गणेश मंदिर से हुआ।

यात्रा के दौरान ग्रामीण क्षेत्र में स्वयंसेवी संगठनों को भी उनकी भूमिका के बारे में जानकारी दी जायेगी। यात्रा का समापन 21 फरवरी को कालिदास अकादमी उज्जैन में होगा। इस मौके पर जल-पुरुष के नाम से पहचाने जाने वाले पर्यावरणविद श्री राजेन्द्र सिंह कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। श्री सिंह पर्यावरण के साथ-साथ जल के संरक्षण के बारे में भी जानकारी देंगे।

उज्जैन कलेक्टर श्री कवीन्द्र कियावत ने क्षिप्रा नदी के जल को संरक्षित घोषित करने का आदेश जारी कर दिया है। आदेश जारी होने के बाद क्षिप्रा नदी का जल अब घरेलू प्रयोजन के लिये ही उपयोग किया जा सकेगा। जल को अन्य किसी प्रयोजन तथा सिंचाई और औद्योगिक प्रयोजन के लिये उपयोग नहीं किया जा सकेगा। कलेक्टर ने सभी एसडीएम को इस आदेश का पालन सुनिश्चित किये जाने के लिये निर्देशित किया है। आदेश का उल्लंघन होने पर दोषी को 2 वर्ष के कारावास और 2000 रुपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया जायेगा। सिंहस्थ के लिये पीएचई विभाग ने 12 कार्य पूरे कर लिये हैं। इनमें जल-शोधन संयंत्रों का निर्माण, बैराज संधारण, पम्प, टंकी निर्माण, पाइप लाइन बिछाने जैसे काम शामिल हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)