दक्षिण कोरिया में वैदिक गणित

श्री रवि कुमार

हिन्दू स्वयंसेवक संघ के पूर्ण कालीन कार्यकर्ता है. ‘सेवा इंटरनॅशनल’ इस संस्था से वे संलग्न है. २६ अप्रेल से ३० अप्रेल २०१२ तक वे दक्षिण कोरिया की राजधानी सेऊल में थे. उनकी प्रेरणा से सेऊल राष्ट्रीय विश्‍वविद्यालय और सुंग क्यून क्वान विश्‍वविद्यालय के संयुक्त तत्त्वावधान में ‘वैदिक गणित और वैदिक विज्ञान’ विषय पर वहॉं तीन कार्यशालाएँ आयोजित की गई थी. इन कार्यशालाओं में विश्‍वविद्यालय में के गणित विषय के प्राध्यापक, अधिष्ठाता, संशोधक विद्यार्थी, और पदव्युत्तर वर्ग के विद्यार्थीयों ने भाग लिया था.
इस कार्यशाला में के अनुभवों से वे इतने प्रभावित हुए कि, यह कार्यशाला और अधिक समय चलाए ऐसी विनती उन्होंने की. इन कार्यशालाओं में से निकले तीन विद्यार्थीयों ने बाद में एक मंदिर में वैदिक गणित के वर्ग लिए. श्री रवि कुमार ने सेऊल में के राधाकृष्ण मंदिर में दक्षिण पूर्व एशिया में की जनता पर हिंदूओं के प्रभाव पर सचित्र व्याख्यान भी दिए.
इन भाषणों में कोरियन भाषा और तामिल भाषा में की समानता के अनेक उदाहरण उन्होंने दिए. (रवि कुमार तमिलभाषि है) उदाहरण सुनकर श्रोता आश्‍चर्यचकित हुए. हिंदू और कोरियनों के बीच की चालि-रीति में का साम्य भी उन्होंने अधोरेखित किया. उन्होंने एक कहानी भी बताई. माता लक्ष्मी इस भारतीय राजकुमारी ने इ. स. ४८ में कोेरिया के राजा किम् सुरो के साथ विवाह किया था. आज के कोरियन उनकी संतान है. रवि कुमार ने कोरिया में रहने वाले भारतीयों को उपदेश किया कि, वे कोरियन जनता के साथ सतत सार्थक संपर्क बढ़ाए.
इन सब कार्यक्रमों का आयोजन, डांग सेऊल विश्‍वविद्यालय में योग का अध्यापन करने वाले प्राध्यापक डॉ. अभिजित घोष ने किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*