विनोबा को श्रद्धांजलि देकर संपन्न हुई 21 हजार किमी लंबी स्वस्थ भारत यात्रा-2

  • स्वस्थ भारत के तीन आयाम जनऔषधि, पोषण एवं आयुष्मान विषय को जन-जन तक पहुंचाने के लिए 21 हजार किमी लंबी रही यात्रा
  • 150 छोटे-बड़े हुए आयोजन, 1 लाख से ज्यादा लोगों से प्रत्यक्ष हुआ संवाद, 25 राज्यों में गई यात्रा
  • बा-बापू एवं बाबा को समर्पित थी यात्रा
  • स्वस्थ भारत (न्यास) ने की पहल प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना का रहा विशेष सहयोग
  • यात्रियों ने देश के स्वास्थ्य का लिया जायजा, स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत तेजी से कार्य करने पर दिया बल
  • इसके पूर्व भी स्वस्थ भारत (न्यास) की पहल पर हो चुकी है स्वस्थ भारत यात्रा
  • यात्री लौटे दिल्ली, देशवासियों को इस यात्रा में सहयोग करने लिए आभार प्रकट किया
  • यात्रा में बिहार के 5, यूपी-उत्तराखंड के 1-1 एवं हरियाणा के दो यात्री हुए शामिल

नई दिल्ली/24.11.19

महात्मा गांधी के 150 वी जयंती वर्ष में बापू के पुण्यतिथि 30 जनवरी, 2019 को साबरमति आश्रम से भारत के हर घर में स्वास्थ्य का दीपक जलाने के लिए निकली स्वस्थ भारत यात्रा-2 का समापन महाराष्ट्र के पवनार स्थित संत विनोबा की पुण्यतिथि पर आयोजित मित्र मिलन समारोह में हुआ। इस अवसर पर देश भर से 125 से ज्यादा यात्राएं संत विनोबा भावे को श्रद्धांजलि देने पहुंची थी। इसके पूर्व स्वस्थ भारत यात्रियों ने गांधी की कर्मभूमि सेवाग्राम से विनोबा की कर्मस्थली पवनार आश्रम तक देश भर से आए यात्रियों के साथ 8 किमी की पदयात्रा की। दूसरे दिन विनोबा की पुण्यतिथि 15 नवंबर को उन्हें श्रद्धाजलि अर्पीत की। विनोबा की पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित मित्र मिलन में यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह अपनी यात्रा के मकसद के बारे में देश भर से आए लोगों को अवगत कराया और बाबा को समर्पित करते हुए इस यात्रा का समापन करने की घोषणा की। स्वस्थ भारत यात्रियों ने दिल्ली लौटने के बाद मीडियाकर्मियों से बातचीत की। बातचीत में उन्होंने अपनी मैराथन यात्रा के बारे में विस्तार से बताया।

चौथा चरण गाजियाबाद में संपन्न हुआ था

स्वस्थ भारत यात्रा का चौथा चरण 8 अप्रैल को गाजियाबाद के मेवाड़ इंस्टीच्यूट में संपन्न हुआ था। उसके बाद चुनाव को ध्यान में रखते हुए यात्रा को स्थगित कर दिया गया था। स्वस्थ भारत यात्रा का चौथा चरण बिहार के भागलपुर से 24 मार्च को शुरू हुआ था। इस चरण में पटना, मुजफ्फरपुर, छपरा, सीवान, गोपालगंज, भितिहरवा आश्रम, गोरखपुर, वाराणसी, प्रयागराज, लखनऊ, शाहजहांपुर और मुरादाबाद में आयोजन हुए। 15 दिनों के इस चरण में कुल 31 आयोजन हुए।   70 दिनों में 21 राज्यों में 16000 किमी की यात्रा तय कर स्वस्थ भारत यात्री गाजियाबाद पहुंचे थे। इस दौरान 143 आयोजनों के माध्यम से यात्रियों ने 1 लाख से ज्यादा लोगों से स्वास्थ्य विषयक संवाद किया है।

जनऔषधि दिवस के अवसर पर 7 मार्च, 2019 से कोकराझाड़ (असम) से शुरू स्वस्थ भारत यात्रा-2 का तीसरा चरण सिलीगुड़ी में संपन्न हुआ था जबकि चौथा चरण विश्व टीवी दिवस के अवसर पर 24 मार्च को बिहार के भागलपुर से शुरू हुआ। तीसरे चरण में स्वस्थ भारत यात्रियों ने असम, मेघालय, त्रिपुरा, मणिपुर एवं नगालैंड का दौरा किया और 3500 किमी की अपनी यात्रा में यहां पर आयोजित 29 कार्यक्रमों के माध्यम से पूर्वोत्तर के लोगों को जनऔषधि, पोषण और आयुष्मान के बारे में जागरूक किया। तीसरे चरण में पांच राज्यों में जिन प्रमुख शहरों में यात्रा पहुंची उसमें कोकराझार, गुवाहाटी, शिलांग, करीमगंज, बदरपुर (असम), अगरतला, पानीसागर, शिलचर, इंफॉल, कोहिमा, दीमापुर और तेजपुर प्रमुख हैं।  वरिष्ठ स्वास्थ्यकर्मी एवं स्वस्थ भारत (न्यास) के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह के नेतृत्व निकली इस यात्रा में वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत, प्रियंका सिंह, शंभू कुमार, विवेक शर्मा, पवन कुमार एवं विनोद रोहिल्ला शामिल रहे हैं।

दूसरा चरण नागपुर से हुआ था शुरू

यात्रा का दूसरा चरण नागपुर से शुरु हुआ था। नागपुर से सिलीगुड़ी तक पांच राज्यों, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, ओड़िशा, झारखंड और पश्चिम बंगाल में स्वस्थ भारत यात्रियों ने स्थानीय लोगों और जनऔषधि केन्द्रों के सहयोग से विभिन्न कार्यक्रमों को अंजाम दिया, इसके पहले चरण में यात्री दल ने दक्षिण भारत के सभी 7 राज्यों कर्नाटक, केरल, तमिलनाडू, पुदुचेरी, दमन, आन्ध्रप्रदेश और तेलांगना के अलावा गुजरात और महाराष्ट्र की यात्रा की, जिनमें पदयात्रा, कार रैली, बाइक रैली, विचार गोष्ठी, जनऔषधि केन्द्रों के उद्घाटन आदि कार्यक्रम उल्लेखनीय हैं।

बा-बापू 150 एवं बाबा 125 को समर्पित रहा स्वस्थ भारत यात्रा-2

290 दिनों की नियत-अनियत स्वस्थ भारत यात्रा में 150 आयोजन हुए, जिनमें 21 दिनों के पहले चरण में 50 आयोजन हुए जबकि 15 दिनों के दूसरे चरण में 30 एवं 16 दिनों के तीसरे चरण में 29 , 15 दिनों के चौथे चरण में 31 एवं अनियतकालिन पांचवे चरण के 220 दिनों में 7 आयोजन हुए। महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती वर्ष पर गांधी जी के शहादत दिवस 30 जनवरी को उनके साबरमती स्थित साबरमती आश्रम से स्वस्थ भारत यात्रा-2 की शुरूआत हुई और 15 नवंबर को संत विनोबा को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि अर्पित कर इस यात्रा का समापन हुआ।

इस यात्रा में बिहार के पांच, यूपी-उत्तराखंड से एक-एक और हरियाणा के दो यात्री हुए शामिल

स्वस्थ भारत यात्रा-2 में इस बार 9 यात्रियों का कारवां निकला था। जिसमें पांच बिहार से दो हरियाणा से और यूपी उत्तराखंड से एक-एक यात्री हुए शामिल। बिहार से यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह, वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत, अशोक प्रियदर्शी, प्रियंका सिंह एवं शंभू कुमार शामिल हुए जबकि यूपी से विवेक शर्मा एवं उत्तराखंड से डॉ. सोम शेखर शामिल हुए।

लोकसभा चुनाव के कारण बाधित हुई यात्रा

स्वस्थ भारत न्यास के ट्रस्टी धीप्रज्ञ द्विवेदी ने बताया कि स्वस्थ भारत यात्रा-2 शुरू के 90 दिनों में पूरी करने का संकल्प हमलोगों ने लिया था। बीच में लोकसभा चुनाव की घोषणा होने के कारण कार्यक्रम करने में असुविधा होने लगी थी। अतः इस यात्रा 8 अप्रैल से अनियत कर दिया गया था। और यात्रा दल के सदस्य नियत कार्यक्रम स्थल पर जत्था में न जाकर एक या दो लोगों की टोली में जाते थे। अपना संदेश देते थे और फिर लौट आते थे। उन्होंने बताया कि स्वस्थ भारत यात्रा-2 का समापन दो सदस्यीय यात्री दल ने किया। पवनार आशुतोष कुमार सिंह की अगुवाई वाली टोली गई थी। इस टोली में संस्था के चेयरमैन के साथ प्रियंका सिंह गई थी।

मेहनती, ईमानदार एवं परोपकारी होते हैं पूर्वोत्तर के लोगः आशुतोष कुमार सिंह

मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए स्वस्थ भारत के न्यास के चेयरमैन व यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने पूर्वोत्तर के अनुभव को साझा करते हुए कहा कि यहां के लोग बहुत ही मेहनती, ईमानदार एवं परोपकारी हैं। यहां की महिलाओं की मेहनत को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर की अर्थव्यवस्था की धूरी हैं यहां की महिलाएं। पूर्वोत्तर में खासतौर से वनवासी इलाकों में स्वास्थ्य को लेकर सघन जागरूकता अभियान चलाए जाने पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि सरकार की अच्छी-अच्छी योजनाओं का लाभ यहां के लोग नासमझी में नहीं उठा पाते हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि लोगों को तबतक जागरूक किया जाए जब तक उनमें स्वास्थ्य की समझ विकसित नहीं हो जाती।

दक्षिण भारत में स्वास्थ्य के प्रति ज्यादा जागरूकता

स्वस्थ भारत यात्रा प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने कहा कि दक्षिण भारत के लोग स्वास्थ्य के प्रति ज्यादा जागरूक हैं। चिकित्स द्वारा लिखी दवा का पूरा डोज वे लेते हैं। केरल के लोग गुनगुना पानी हमेशा पीते हैं। अपने स्थानीय भोजन करने पर उनका विशेष जोर रहता है।

यात्रा के सहयोगी

स्वस्थ भारत यात्रा-2 के राष्ट्रीय संयोजक अनिल सौमित्र ने बताया कि इस यात्रा में तमाम सरकारी व गैर-सरकारी संस्थाओं का सहयोग एवं समर्थन मिला है। ‘प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना’, ब्रेन बिहैवियर रिसर्च फाउंडेशन ऑफ इंडिया, मेवाड़ विश्वविद्यालय, कस्तूरबा हेल्थ सोसाइटी, स्पंदन, हीलिंग सबलाइम फाउंडेशन, सोशल रिफॉर्म्स एवं रिसर्च ऑर्गनाइजेशन, सर्च फाउंडेशन, हिन्दुस्थान समाचार समूह सहित तमाम जनसरोकारी गैर-सरकारी संस्थाओं, साइनोकेम फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड, क्योरटेक स्कीनकेयर, मस्कट हेल्थ सीरीज प्रा. लिमिटेड, और सनकेयर फार्मास्यूटिकल्स प्रा.लिमिटेड जैसी गुणवत्तायुक्त जेनरिक दवा बनाने वाली फार्मा कंपनियों के साथ-साथ देश के कई शिक्षण संस्थानों का सहयोग एवं समर्थन प्राप्त हुआ है।

इस यात्रा में वरिष्ठ पत्रकार एवं इंदिरा गांधी कला केन्द्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय,  कनेरी मठ के श्री काडसिद्धेश्वर स्वामी जी, कर्नाटक हेल्थ इंस्टिट्यूट के प्रमुख और प्रख्यात चिकित्सक डाँ. घनश्याम वैद्य,  वरिष्ठ शिक्षाविद एवं पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की पदयात्रा के संयोजक रहे एचएन शर्मा, मेवाड़ विश्वविद्यालय के चेयरमैन अशोक गदिया, देश-दुनिया के जाने-माने हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. अनुराग अग्रवाल, वरिष्ठ न्यूरो सर्जन डॉ. मनीष कुमार, वरिष्ठ ब्रेन एनालिस्ट डॉ. आलोक मिश्रा, वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह, उमेश चतुर्वेदी, ओमप्रकाश अश्क, ओमप्रकाश तिवारी सहित सैकड़ों पत्रकार मित्रों का सहयोग प्राप्त हो रहा है। इसके साथ ही लाइफ एवं वेलनेस कोच डॉ. अभिलाषा द्विवेदी, वरिष्ठ स्तंभकार शशांक द्विवेदी एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. ममता ठाकुर का विशेष मार्गदर्शन एवं सहयोग प्राप्त हो रहा है। स्वस्थ भारत के संरक्षक मंडल एवं मार्गदर्शक मंडल के वैचारिक सहयोग ने इस यात्रा को परिकल्पित करने में विशेष मदद की है।

देश भर से मिल रही है शुभकामनाएं

स्वस्थ भारत यात्रा के समापन होने की घोषणा के बाद देश दुनिया के लोग स्वस्थ भारत यात्रियों को अपना शुभकामना संदेश प्रेषित कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में यात्रियों ने अनोखा काम किया है। पूरे भारत का भ्रमण और वह भी कार्यक्रम करते हुए आसान नहीं था। प्रधानमंत्री भारतीयत जनऔषधि परियोजना के सीइओ सचिन कुमार सिंह ने यात्रियों को शुभकामना प्रेषित करते हुए कहा है कि जनऔषधि के प्रचार-प्रसार में इस यात्रा ने अतुलनीय कार्य किया है। बॉलीवुड अभिनेता अजय यादव, गीतकार शेखर अस्तित्व, संगीतकार सरोज सुमन, फिल्म निर्देशक सुनील अग्रवाल के साथ-साथ देश के चिकित्सा जगत से जुड़े लोगों ने भी शुभकानाएं प्रेषित की है।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में 7 वर्षों से सक्रिय है स्वस्थ भारत (न्यास)

विगत 7 वर्षों से स्वास्थ्य एडवोकेसी के क्षेत्र में काम कर रहे  स्वस्थ भारत (न्यास) ने महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती वर्ष में उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करने की अनूठी पहल की है। संस्था ने गांधी को याद करते हुए स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत स्वस्थ भारत के तीन आयामः जनऔषधि पोषण और आयुष्मान विषय पर देश की आम जनता को जागरूक करने का मैराथन संकल्प लिया है। ‘कंट्रोल मेडिसिन मैक्सिमम् रिटेल प्राइस’, ‘जेनरिक लाइए पैसा बचाइए’, ‘नो योर मेडिसिन’, तुलसी लगाइए रोग भगाइए’, ‘नो योर डॉक्टर नो योर फार्मासिस्ट’ एवं ‘स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज’ सहित दर्जनों जागरुकता अभियानों के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत एवं जागरूक करने का न्यास ने प्रयास किया है। संस्था ने’स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज’ विषय को लेकर 2017 में देशव्यापी स्वस्थ भारत यात्रा की। इस दौरान लाखों बालिकाओं से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष संवाद स्थापित कर बालिका स्वास्थ्य के मसले को एक दिशा एवं गति देने का काम किया है। इसी कड़ी में एक बार फिर से संस्था स्वस्थ भारत यात्रा-2 लेकर निकली है। इस यात्रा का ध्येय वाक्य है- ‘स्वस्थ भारत के तीन आयाम जनऔषधि, पोषण और आयुष्मान’।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*