103 बरस की ब्रह्मकुमारी दादी जानकी का पहली बार भोपाल आगमन, तीन दिन देंगी राजयोग के टिप्स

– 103 साल की दादी बताएंगी अपनी लंबी उम्र का राज़ और राजयोग के टिप्स
– नीलबड़ के सुख-शांति भवन में आमजन कर सकेंगे नि:शुल्क पर्सनॉलिटी डेवलपमेंट और मेडिटेशन कोर्स
– माउंट आबू से आने वाले सौ से अधिक बाल ब्रह्मचारी साधकों का होगा सम्मान

ब्रह्माकुमारी संस्थान के नीलबड़ स्थित नवनिर्मित सुख-शांति भवन में 9 जनवरी से तीन दिवसीय आध्यात्मिक सत्संग महोत्सव आयोजित किया जाएगा। इसे लेकर जोर-शोर से तैयारियां की गई हैं। भवन का लोकार्पण 103 वर्षीय ब्रह्माकुमारी संस्था की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी करेंगी। दादी जानकी के साथ माउंट आबू मुख्यालय से तकरीबन सौ से अधिक बालब्रह्मचारी साधक भी भोपाल आ रहे हैं।  इस उपलक्ष्य में दादी के साथ सभी साधकों का शॉल-श्रीफल और साफा पहनाकर सम्मान किया जाएगा। वहीं पूरे मध्य प्रदेश से भी हजारों की संख्या में भाई-बहनें पहुंचेंगे।
सुख-शांति भवन सेवा केन्द्र की संचालिका बीके नीता बहन ने बताया कि भोपाल में पहली बार दादी के आगमन को लेकर संस्थान से जुड़े भाई-बहनों में भारी उत्साह है। इसे लेकर बड़े स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। कार्यक्रम में पूरे मध्यप्रदेश की वरिष्ठ ब्रह्माकुमारी बहनों का भी सम्मान किया जाएगा।

ऐसा होगा तीन दिन का कार्यक्रम

9 जनवरी: 10.30 बजे दादीजी का आगमन, 11 बजे सुख-शांति भवन का गृह प्रवेश समारोह, 12 बजे से माउंट आबू से पधारे बालब्रह्मचारी साधकों का सम्मान समारोह, दोपहर 1 बजे दादीजी का संबोधन, शाम 5 बजे पूरे मध्य प्रदेश की वरिष्ठ ब्रह्माकुमारी बहनों का सम्मान, शाम 7.30 बजे दादीजी का संबोधन।

10 जनवरी: 10.30 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम, 11.30 से महोत्सव शुरू, 12.30 बजे दादीजी का संबोधन, शाम 7.30 से शहर के वरिष्ठ अधिकारी, जनप्रतिनिधि और गणमान्य नागरिकों के साथ दादीजी के स्नेह मिलन

11 जनवरी: 9.30 बजे भोपाल शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनों सहित सिंधी समाज संगठन द्वारा दादीजी का सम्मान शॉल-श्रीफल और प्रशस्ति पत्र देकर किया जाएगा।

सुख-शांति भवन में ये कोर्स होंगे नि:शुल्क

– सकारात्मक जीवनशैली
– राजयोग ध्यान शिविर
– योगा/प्राणायाम
– डिवाइन क्लीनिक
– परामर्श कक्ष
– व्यसन-मुक्ति शिविर
– बाल विकास शिविर
– शांति अनुभूति कक्ष
– युवा उत्थान कार्यक्रम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)