आलेख

खस्ताहाल पाक फिर भी इरादे नापाक

  -ऋतुपर्ण दवे rituparndave@gmail.com पुलवामा आतंकी हमले के बाद सुरक्षा में चूक को लेकर सवाल स्वाभाविक हैं और उठना भी चाहिए। ढ़ेरों पैकेटों लदे विस्फोटक से भरे वाहन को लेकर कैसे आतंकी फौजियों के बीच घुस गया। यह सुरक्षा से संबंधित सारी एजेंसियों के लिए गंभीर चुनौती और बड़ी लापरवाही ... Read More »

भारत में जोश पाकिस्तान बेहोश!

-ऋतुपर्ण दवे rituparndave@gmail.com पाकिस्तान के लिए गुजरे मंगलवार का सवेरा कालिख भरा था। शायद ही कभी भूल पाएगा। भले ही भारत के जवाब को कुछ भी नाम दिया जाए लेकिन यह सच है कि पाकिस्तान बेहद घबराया हुआ दिख रहा है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने भी हाल ... Read More »

“गुटखा-खैनी के नियंत्रण के लिए राष्ट्रीय मिशन जरूरी”

उमाशंकर मिश्र Twitter handle :@usm_1984 (इंडिया साइंस वायर) :गुटखा और खैनी जैसेतम्बाकू उत्पादों का सेवन करने वाले दुनिया के 65 प्रतिशत लोग भारत में हैं और यहां मुंह के कैंसर के 90 प्रतिशत मामलेइन उत्पादों के उपयोग की वजह से ही होतेहैं। इसीलिए तंबाकू उपयोग के नियंत्रण के लिए एक ... Read More »

सपा-बसपा के विजयी प्रत्याशियों के समर्थन पर आश्वस्त है कांग्रेस

डा. रवीन्द्र अरजरिया चुनावी समर में सभी राजनैतिक दल अपने तरकश के तीरों को नये अंदाज में चलाने लगे हैं। प्रतिव्दंदियों के वार पर प्रतिवार करने की कोशिशें तेज होने लगीं हैं। मोदी के विपक्षी अपने का संदेशों में राष्ट्र को तानाशाही से बचाने और विकास पथ पर ले जाने ... Read More »

नवसंवत्सर : विक्रमसंवत और वासंतिक नवरात्र

 अन्नपूर्णा बाजपेयी ‘अंजू’ जब कड़ाके की ठंड समाप्त होने लगती है तब कुछ गुलाबी सर्दियों के साथ ही आता है बसंत और ले आता है नैसर्गिक सुंदरता, साथ ही त्योहारों की भरमार। हवाएँ रूमानी हो जाती हैं,चारों ओर रंग, सुगंध,महुए की गंध, दहकते टेसू, महकते गुलाब, अधपकी गेहूं की बालियाँ, ... Read More »

अचूक भविष्य कथन करने के लिए ज्योतिषियों को नित्य साधना करना आवश्यक !

     चंडीगढ । उपासना (साधना) करनेवाले ज्योतिषियों के भविष्यकथन में जो अचूकता होती है, वह अचूकता पुस्तकी पंडित ज्योतिषियों के भविष्यकथन में नहीं होती । उनके भविष्यकथन संदिग्ध होते हैं । अनेक बार वे गलत भी होते हैं । इसका कारण है कि पुस्तकी पंडित ज्योतिषि केवल प्रारब्ध कर्म के ... Read More »

आम चुनाव और चुनौतियाँ

राकेश दुबे १७ वीं लोकसभा के चुनाव का बिगुल बज गया है | यह चुनाव सत्तारूढ़ भाजपा के लिए अन्य दलों से ज्यादा चुनौती पूर्ण है | इस समय पार्टी क्या सोच रही है और वह आगामी आम चुनाव की तैयारी किस प्रकार कर रही है। प्रधनमंत्री जॉर्ज बुश की ... Read More »

मोदी : जिसने अपने लिए कुछ नहीं किया, उसके लिए कुछ करने का वक्त

एक सामान्य किन्तु समझदार गृहिणी रंजना सिंह की अपील गहन असमंजस से भरा वह समय जब यह निश्चित नहीं था कि दलाध्यक्ष बाहर आकर उद्घोषणा कर पाएँगे कि नहीं कि उक्त दल का प्रधानमंत्री उम्मीदवार वह व्यक्ति होगा जिसे पिछले 2 दशकों से मीडिया बुद्धिजीवियों और विपक्षियों ने राक्षस हत्यारा ... Read More »

सरिस्का से कर सकेंगे अंतरिक्ष का दीदार

उमाशंकर मिश्र Twitter handle : @usm_1984 शहरों में वायु और प्रकाश प्रदूषण की वजह से रात में आसमान में सितारों को देखना कठिन हो गया है। इसीलिए वैज्ञानिकों द्वारा उपयोग की जाने वाली वेधशालाएं दूरदराज के क्षेत्रों में स्थापित की गई हैं। दूर होने के साथ-साथ ये वेधशालाएं आम लोगों ... Read More »

हमें उन 54 भारतीय सैनिकों को पाकिस्तान के क्रूर कब्जे से वापस लाना है

सुशील अत्रे. पाकिस्तान से समझौता करने की जल्दबाजी में इंदिरा गांधी इतनी अंधी बहरी क्यों हो गयी थीं? आज एक विंग कमांडर अभिनंदन को बंदी बनाए जाने तथा उनकी रिहाई को लेकर सरकार के खिलाफ राजनीतिक मातम और मीडियाई ताण्डव करने का घृणित पाखंड कर रही कांग्रेस शायद भूल गयी ... Read More »