फीचर्स

गुरु संस्मरण भाग -१

तनुजा ठाकुर पिछले एक वर्षसे हमारे कुछ मित्र हमें पुस्तक लिखनेके लिए बारबार कह रहे हैं वस्तुतः पिछले चौदह वर्षोंसे पूर्ण समय आध्यत्मिक जीवन जीने के कारण यदिकुछ लिख भी सकी तो इसी विषय पर लिखूंगी परन्तु मेरे श्रीगुरु ने ऐसा कोई विषय छोड़ा ही नहीं है कि मैं कुछ ... Read More »

भोपाल में दक्षिणपंथी बुद्धिजीवियों का जमावड़ा

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 4 से 6 फरवरी तक बुद्धिजीवियों का जमावड़ा हो रहा है। देशभर के 29 प्रांतों के लगभग सौ से अधिक बुद्धिजीवी इस सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। अपने को राष्ट्रवादी मानने वाले ये बौद्धिक लोग प्रज्ञा प्रवाह संगठन के बैनर तले इकट्ठा हो रहे है। ... Read More »

मलगांव : जैविक ग्राम, निर्मल ग्राम

उमाशंकर मिश्र मध्यप्रदेश के खंडवा जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर छैगांवमाखन विकासखंड में स्थित है जैविक ग्राम मलगांव। 75 वर्षीय वयोवृद्ध दशरथ पटेल ने मलगांव में बदलाव के दौर को अपनी आंखों से देखा है। वे बताते हैं कि-‘मलगांव बहुत गिरा हुआ था, यहां कोई आता-जाता ... Read More »

बुनियादी ग्राम्य विकास की आधारशिला है गौवंश

कामधेनु गौशाला ग्राम और गौ सेवा का अद्भुत प्रकल्प हमारी सनातन दैवी संस्कृति कहती है कि,‘‘गाय केवल एक पशु नहीं अपितु विश्व का कल्याण करने वाली मातृ शक्ति है’’। गाय ही एक ऐसा प्राणी है जिसके रोम -रोम में मानव और विश्व का  कल्याण है। शास्त्रों में भी गौमाता  को ... Read More »

कोई सीता मैया को फूल चढ़ायेगा ?

अनुराधा शंकर इन दिनो श्रीलंका में पर्यटक के रूप में भी भावुक न होना कठिन है। एक राहत की सांस अब भी सरसराती है, क्षितिज को चूमते समुद्र से लेकर व्यस्त नगरों और हरे भरे देहात तक।  युद्ध खत्म हो चुका है और पूरी दुनिया मदद करने को आतुर है ... Read More »

वलनीः छब्बीस बरस की गवाही

योगेश अनेजा यह कहानी है नागपुर तालुका के गांव वलनी के लोगों की। वलनी में उन्नीस एकड़ का एक तालाब है। वलनीवासी 1983 से आज तक वे अपने एक तालाब को बचाने के लिए अहिंसक आंदोलन चला रहे हैं। छब्बीस वर्ष गवाह हैं इसके। न कोई कोर्ट कचहरी, न तोड़ ... Read More »

सगोत्र विवाह और भारतीय परम्परा

– सुबोध कुमार सगोत्र विवाह भारतीय वैदिक परम्परा मे निषिद्ध माना जाता है. वैसे गोत्र शब्द का प्रयोग वैदिक ग्रंथों मे कहीं दिखायी नही देता. सपिण्ड (सगे बहन भाइ) के विवाह निषेध का उपदेश , ऋग्वेद 10वें मण्डल के 10वें सूक्त मे यम यमि जुडवा बहन भाइ के सम्वाद के ... Read More »

संघ की शाखा का प्रभाव, आदर्श बना झिरी गांव

अनिल सौमित्र संघ के स्वयंसेवकों के लिए यह गर्व का विषय है, अपने स्वप्न को साकार हुआ देखना गौरवान्वित करता है। मीडिया के लिए यह कौतुहल का मुद्दा है। आखिर पूरा गांव संस्कृतमय कैसे है! बच्चा-बच्चा संस्कृत कैसे बोलता-समझता है। शोधार्थियों के लिए भी एक महत्वपूर्ण विषय है। एक समूचा ... Read More »

राष्ट्र की आराधना करने वाले मध्यप्रदेश के युवा

अनिल सौमित्र भोपाल से भारत में युवा शक्ति की जनसंख्या 54 प्रतिशत से अधिक है । देश के 65 करोड़ युवाओ के जागरण के बिना भारत का अभ्युदय संभव नहीं। मध्यप्रदेश में भी लाखों की संख्या में युवा हैं। हाल ही में सरकार ने युवा नीति भी बनाई है। इन ... Read More »

सभ्यता और संघर्ष की कहानी है नर्मदा

रमेश शर्मा मध्यप्रदेश की जीवन रेखा मानी जाने वाली नर्मदा गंगा से भी प्राचीन नदी है। भारतीय पुराण परंपरा में विषयों का वर्णन करने की एक शैली है। यह नर्मदा की महत्ता और उसके स्थायी भाव की ही विशेषता है कि नर्मदा का वर्णन न केवल पुराण में है, बल्कि ... Read More »