जानकारी

बिहार में चिंताजनक है भूमिगत जल स्तर की स्थिति

उमाशंकर मिश्र Twitter : @usm_1984@ नई दिल्ली, 10 जुलाई (इंडिया साइंस वायर):बिहार के कई जिलों में भूमिगत जल स्तर की स्थिति पिछले 30 सालों में चिंताजनक हो गई है। कुछ जिलों में भूजल स्तर दो से तीन मीटर तक गिर गया है। एक ताजा अध्ययन के अनुसार, भूजल में इस ... Read More »

वर्तमान शिक्षा तंत्र की कमियां

डॉ. अंशुल उपाध्याय  समय का चक्र अब फिर तेजी से घूम रहा है ।जहां एक ओर भारत जैसे विकासशील देश में युवा शक्ति से अत्यधिक अपेक्षाये की जा रही है। वही दूसरी तरफ भारत में बालकों और युवाओं की शिक्षा में गुणवत्ता वृद्धि हेतु तनिक भी प्रयास नही किये जा ... Read More »

देश के कल्याण के लिए नेक इंसान बनना जरूरी

अंशुल उपाध्याय हम एक कट्टर देशभक्त है। पर देश से बढ़कर हम विश्व और विश्व से बढ़कर इंसानियत को महत्व देते है। कुछ दिन पहले कुछ सज्जनों से हमने सुना कि, भारत के लोग पाश्चमि सभ्यता की तरफ भाग रहे है। मोबाइल,पे सारा दिन जाने क्या क्या देखते है। संस्कारो ... Read More »

कितने पोषण की जरूरत, बताएगा यह नया ऐप

उमाशंकर मिश्र Twitter handle : @usm_1984 नई दिल्ली, 2 जुलाई (इंडिया साइंस वायर): हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय पोषण संस्थान (एनआईएन) ने न्यूट्रिफाई इंडिया नाउ नामक एक नया ऐप लॉन्च किया है, जो पोषण संबंधी जरूरतों के बारे में लोगों को जागरूक करने में मददगार हो सकता है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल ... Read More »

इन्सान की आवाज की नकल कैसे कर पाता है तोता

उमाशंकर मिश्र Twitter handle : @usm_1984 नई दिल्ली, 3 जुलाई (इंडिया साइंस वायर) : यह तो सभी जानते हैं कि तोते इन्सानों की भाषा की नकल कर सकते हैं। लेकिन, वे ऐसा कैसे कर पाते हैं इस बात को लेकर वैज्ञानिक हमेशा जानने के लिए उत्सुक रहे हैं।पक्षियों की विभिन्न प्रजातियां संदेशों ... Read More »

भारत में निर्मित रडार ने शुरू की मानसून की निगरानी

कोल्लेगला शर्मा Twitterhandle: @kollegala (इंडिया साइंस वायर): हिंद महासागर के ऊपर मौसम और मानसूनकी अधिक सटीक निगरानी के लिए भारत में निर्मित रडार ने कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस ऐंड टेक्नोलॉजी में काम करना शुरू कर दिया है। भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा डिजाइन और विकसित किए गए सीयूसैट-एसटी-205 नामक इस नए रडार ... Read More »

आयुर्वेद के हिसाब से फल-सब्जिओं के गुण-धर्म

– घिया यानि लौकी शीत स्निग्ध है, बलकारक व ज्वरनाशक है. – ककड़ी शीत रुक्ष ग्राही तथा पित्तशामक है और मूत्रल है. – “परवल” गरम, तर है पाचक है, दीपन है, बलकारक है, हल्का है व रुचिकारक है. – तोरी शीत है तर है और कफ-वात कारी है. – “बैंगन” ... Read More »

इन्हें लोकतंत्र नहीं, बल्कि धर्मांतरण खतरे में दिख रहा है…

प्रियंका कौशल छत्तीसगढ़ का पूरा आदिवासी इलाका धर्मांतरण की चपेट में हैं। जशपुर जाइए तो काले पुते घरों को देखकर पता चलता है कि इन सबने धर्म परिवर्तन कर लिया है। स्थानीय चर्च धर्मांतरित लोगों के घरों को काले रंग से इसलिए पुतवा रही है, ताकि गांवों में घुसतेे ही ... Read More »

कर्म से ब्राह्मण शूद्र और शूद्र ब्राह्मण बन सकता है !

सूबेदार जी, शूद्रों के बारे में मनु व मनुस्मृति की अवधारणा—! डॉ आंबेडकर कहते हैं कि ये ओ शूद्र नहीं है कौन से शूद्र ? वास्तव में ये वैदिक काल के नहीं क्योंकि उस समय मनु के विधान में जाति नहीं ! वर्ण व्यवस्था थी छुआ- छूत, ऊँच -नीच, भेद ... Read More »

भारतीय हैं या हिन्दू हैं तो ये बातें पता होंगी ही : बच्चों को जरूर बताएं

दो पक्ष – कृष्ण पक्ष , शुक्ल पक्ष ! तीन ऋण- देवऋण , पितृऋण , ऋषिऋण ! चार युग- सतयुग , त्रेतायुग, द्वापरयुग, कलियुग ! चार धाम- द्वारिका,  बद्रीनाथ, जगन्नाथपुरी, रामेश्वरमधाम ! चार पीठ- शारदा पीठ ( द्वारिका ), ज्योतिष पीठ ( जोशीमठ बद्रिधाम), गोवर्धन                   पीठ ( जगन्नाथपुरी), शृंगेरीपीठ ! चार वेद – ऋग्वेद, अथर्वेद ... Read More »