अन्नपूर्णा बाजपेयी’अंजू की गजलें

गजल 1
**********
नशा ये दिलों को जलाता रहेगा
नही चेत पाये,  सिखाता रहेगा ।
रहे जो सितारे कभी गर्दिशों में,
गज़ब ये नज़ारे दिखाता रहेगा ।
घड़ी भर खुशी जो मिली थी सभी को,
अदाएं दिखाकर लुभाता रहेगा ।
सुनो जी !कभी बात निकली हमारी ,
चरागे  मुहब्बत मुस्कुराता  रहेगा ।
जला कर किसी का जहां तुम चले तो ,
सुकूँ फिर तुम्हे भी सताता रहेगा ।
शरीफों सुनो तुम ज़रा कान खोलो,
वतन अंजु अपना बुलाता रहेगा ।
अन्नपूर्णा  बाजपेयी ‘ अंजु’
*************
गजल 2
********
कभी मुस्कुराओ कभी खिलखिलाओ,
कभी कुछ सुनो तो कभी कर दिखाओ ।
दिलों में जलन के रहे है ठिकाने,
मिटे तल्खियां गीत रहबर सुनाओ ।
लरजती हुई आंख कहती रही कुछ ,
करो प्यार हरदम न नश्तर चुभाओ ।
वफ़ा की तमन्ना न रखना किसी से ,
करे गर जफ़ा तो वफ़ा कर सिखाओ।
कभी तीर दिल के अगर पार जाए,
गमों की निशानी मिटा कर छुपाओ ।
गिला क्या करोगे किसी से रकीबों,
चलो तुम ज़रा खास बनकर बताओ ।।
अन्नपूर्णा बाजपेयी’अंजू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)