एमपी गज़ब है ! गिल्ली-डंडा में भारत को गोल्ड मेडल, अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में झाबुआ के लड़कों ने लहराया झंडा

  • आदिवासी युवकों का कमाल
  • गिल्ली डंडा में देश को गोल्ड मेडल
  • नेपाल, भूटान और बांग्लादेश की गिल्ली उड़ाई

मण्डला : बालाघाट ज़िले के दो आदिवासी युवक और एक युवती की तिकड़ी ने कमाल कर दिया है। एमपी के ये तेज़-तर्रार खिलाड़ी देसी खेल में भी अंतर्राष्ट्रीय चैंपियन बन गए हैं। नेपाल के काठमांडू में आयोजित अंतराष्ट्रीय खेल स्पर्धा में गिल्ली डंडा (अंग्रेज़ी का टिप केट) खेल में देश का परचम लहराया है। आदिवासी युवकों ने नेपाल, भूटान ओर बांग्लादेश की टीमों की गिल्लियां उड़ाकर गोल्ड मेडल हासिल किया है।

नेपाल के काठमांडू में इस लुप्त प्रायः देसी खेल में अपना लोहा मनवाने ओर विजेता बनने के बाद अपने गृह बालाघाट के बैहर कस्बे के परसवाड़ा पहुंचने पर इन खिलाड़ियों का जमकर स्वागत हुआ।

गांव-देहात के खेल गिल्ली-डंडा के प्रति रुझान ओर इस कीर्तिमान के संबंध में खिलाड़ियों का कहना है, कि इन्होंने इस खेल को अपने पूर्वजों से सीखा और इस खेल में इतिहास रचने और अपने देश का नाम रोशन करने की इनकी तमन्ना थी, जो अब इन्होंने पूरी कर ली है। इन खिलाड़ियों का कहना है कि सरकार अन्य खेलों की तरह इस खेल को भी बढ़ावा दे, और खिलाड़ियों को सुविधाएं प्रदान करें। इन धुरंधरों का स्वागत कर स्थानीय लोग अभिभूत हैं और इनकी प्रशंसा करते नहीं थक रहे।

विवेक मिश्रा, स्पंदन फ़ीचर्स ब्यूरो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)