“खसरा और रूबैला से सुरक्षा” पर अंत:पांथिक संवाद

भोपाल : साल 2019 में भारत सरकार द्वारा 9 माह से 15 साल तक के आयु वर्ग के बच्चों के लिए संक्रामक एवं जानलेवा रोग “खसरा एवं रूबैला से सुरक्षा” को लेकर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। केन्द्र सरकार ने “दो बीमारियों को हराएंगे, ये टीका ज़रूर लगवाएंगे” का नारा दिया है। इसी विषय पर विभिन्न मत-पंथों, सम्प्रदायों के वरिष्ठ महानुभावों का मार्गदर्शन और महत्वपूर्ण सन्देश समाज और समुदाय को मिले, इसलिए इस नवीन वर्ष “खसरा-रुबैला भगाओ, जीवन बचाओ” विषय पर केन्द्रित “अंत: पांथिक संवाद” (Inter Religious Dialogue) का आयोजन आज 8 जनवरी, 2019 को भोपाल (मध्यप्रदेश) में आयोजित किया जा रहा है l

संचार, शिक्षा और जागरूकता में धार्मिक गुरुओं और प्रचारकों की बड़ी भूमिका रही है, क्योंकि ऐसे धार्मिक नेताओं के सन्देश न सिर्फ समाज को शिक्षित करते हैं बल्कि उन्हें संवेदनशील भी बनाते हैं। इन संदेशों से समाज का दृष्टिकोण और व्यवहार भी बदलता है। मज़हबी और धार्मिक संदेशों के साथ ही शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता, नवजात देखभाल, स्वस्थ बचपन, बाल अधिकार और पोषण जैसे मुद्दों को भी गंभीरता से संप्रेषित किया जा सकता है। धर्म से जुड़े लोगों की बातें और विचार, समुदाय के साथ-साथ सम्पूर्ण समाज में सुनी, मानी और ग्रहण भी की जाती हैं। अंत:पांथिक संवाद (Inter Religious/Faith Dialogue) में फादर साजी, बी.के. डॉ. रीना बहन, आचार्य श्री भद्रपाल सिंह पुरोहित, काज़ी अनस अली नदवी, हाज़ी जैबुनिशां कुरैशी, ज्ञानी हरजीत सिंह, सैम्युअल जॉन जैसे पंथ-प्रधान और प्रतिनिधि अपने विचार साझा करते हुए समाज को प्रेरित करने हेतु प्रतिबद्धता प्रकट करेंगे।

इस संवाद में विभिन्न मत-पंथों के प्रतिनिधियों के साथ ही विषय-विशेषज्ञ और यूनिसेफ़ के कई स्थानीय वरिष्ठ पदाधिकारी भी शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)