पंचायत प्रतिनिधि ऐतिहासिक काम करने में अपनी शक्ति और समय लगायें : प्रधानमंत्री

जनजातीय शहीदों की स्मृति को संजोने के लिये बनेंगे म्यूजियम

पंचायत राज दिवस पर प्रधानमंत्री श्री मोदी का ग्राम सभाओ को सम्बोधन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की ऐतिहासिक मोती महल का संरक्षण और गोंड जनजातीय संस्कृति अध्ययन केन्द्र बनाने की घोषणा

 

मंडला : 24 अप्रैल, 2018

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पंचायत राज दिवस पर पंचायत प्रतिनिधियों को बधाई देते हुये आव्हान किया कि वे अपने गाँव के लिये ऐसा काम करें जो ऐतिहासिक साबित हो। उन्होंने कहा कि हर जनप्रतिनिधि के मन में ऐसा काम करने की इच्छा है जो चिरस्थाई बना रहे। यह अवसर इसी इच्छा को पूरी करने का संकल्प लेने का है। श्री मोदी आज यहाँ  पंचायत राज दिवस पर जनजातीय बहुल मंडला जिले के ऐतिहासिक रामनगर से ग्राम सभाओ को संबोधित कर रहे थे। उन्होने जनजातीय संस्कृति की अभिव्यक्ति को समर्पित आदि उत्सव का शुभारम्भ किया।

श्री मोदी ने पंचायत प्रतिनिधियों से कहा कि वे देश की सवा सौ करोड़ लोगों की भावनाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। श्री मोदी ने कहा कि पंचायत राज प्रतिनिधियों जो पाँच साल के लिये कार्यकाल मिलता है। उसमें वे अपनी क्षमतानुसार ऐतिहासिक काम करने में अपनी ऊर्जा और समय लगाये। बजट की चिंता नहीं है। चिंता है केवल प्राथमिकताएं तय करने की है । चिंता केवल बजट के सही समय पर सही काम को ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ उपयोग करने की है।  उन्होने कहा है कि अब पहले की सरकारो की तरह बजट की कोई कमी नहीं है। कई काम ऐसे है जो थोडी जिम्मेदारी, संवेदनशीलता और जूनून के साथ पूरे किये जा सकते है। उन्होने बच्चों को स्कूल भेजने,  पोलियो टीकाकरण करने, स्वच्छता रखने, जैविक खेती करने जैसे काम गिनाते हुए कहा कि ऐसे कामों के लिये सिर्फ संकल्प जरुरी है।

      प्रधानमंत्री ने कहा कि जन धन,, वन धन, और गोवर्धन के सही और वैज्ञानिक उपयोग से ग्रामीण भारत का कायाकल्प हो सकता है। उन्होंने कहा कि पंचायत जनप्रतिनिधि लोगो के प्रति जवाबदेह होते है। उन्होंने कहा कि एक सरपंच अगर दृढ़ संकल्प ले तो अपने गांव में आधारभूत परिवर्तन कर सकता है। उन्होने कहा कि ग्रामीण भारत मे बड़ा परिवर्तन लाने के लिये छोटे-छोटे कामों को जुनून के साथ करने की आवश्यकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पंचायत राज दिवस भारत के कायाकल्प करने के संकल्प लेने का दिवस है। उन्होंने कहा कि पंचायत प्रतिनिधि जनता के सेवक हैं और वे अपनी ऊर्जा, शक्ति और दूरदर्शिता से गाँव की जिन्दगी बदल सकते हैं। उन्होंने मण्डला जिले में बाँस की खेती को प्रोत्साहन देने का उदाहरण देते हुये कहा कि जनजातीय लोगों के हित में केन्द्र सरकार ने बाँस को पौधे की श्रेणी से हटाकर घास की श्रेणी में रखा है ताकि इसकी खेती आसान की जा सके और इसका अधिकाधिक उपयोग कर आदिवासी किसान अपनी आय में भी वृद्धि कर सके। उन्होंने मक्खी पालन और मनरेगा के अंतर्गत अप्रैल, मई और जून में पानी बचाने के कामों को शुरू करने जैसे छोटे काम का उदाहरण देते हुये कहा कि बड़ा परिवर्तन लाने वाले कुछ छोटे काम बजट के बिना भी पूरे किये जा सकते हैं। इसके लिये पंचायत राज प्रतिनिधियों की ओर से संवेदनशील और दूरदर्शी होन की आवश्यकता है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 साल पूरे हो रहे हैं और 02 अक्टूबर को महात्मा गांधी जी की जयंती को 150 साल पूरे हो रहे हैं। उन्होंने पंचायत राज प्रतिनिधियों का आव्हान किया कि वे गाँधी जी के सपनों का भारत निर्माण करने का संकल्प लें और उन्हें मिले पाँच साल को स्वर्णिम काल बनाये।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने मनेरी में 120 करोड़ रूपये की लागत से लगने वाले एलपीजी गैस बॉटलिंग प्लांट की चर्चा करते हुये कहा कि इससे आस-पास के जिलों में आसानी से गैस प्रदाय होने लगेगा और इससे जुड़े रोजगार का निर्माण होगा और नये अवसर पैदा होंगे। लोगों को सरलता से गैस उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि जय जवान, जय किसान और जय विज्ञान पर ध्यान दें।

बेटियों के साथ दुराचार करने के मामले में फांसी देने के लिये लाये गये अध्यादेश की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि बेटियों को सम्मान देना सीखे और बेटों को जिम्मेदारी भी सिखायें। इससे बेटियों को सुरक्षा देने का काम आसान हो जायेगा। उन्होंने कहा कि जो राक्षसी कार्य करेगा वह फाँसी पर लटकेगा। इसके लिये सामाजिक आंदोलन भी चलाने और समाज के लोगों आगे बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वर्तमान केन्द्र सरकार लोगों के दिल की आवाज सुनती है।

श्री मोदी ने कहा कि देश के मान सम्मान और आजादी के लिये शहीद हुये जनजातीय शहीदों के बलिदान को याद करने के लिये संबंधित जनजातीय बाहुल्य प्रदेश में आधुनिक संग्रहालय बनेगा। इसमें जनजातीय शहीदों की स्मृति का गौरवगान होगा।

श्री मोदी ने कहा कि प्रजातंत्र को मजबूत बनाने के लिये पंचायतों को सक्षम और सशक्त बनाना होगा। इसके लिये ग्राम स्वराज अभियान की शुरूआत की गई है। इसके अंतर्गत आयुषमान भारत और किसान सम्मेलन जैसे आयोजन होंगे। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों से इस अभियान में सक्रिय रूप से भाग लेने की अपील की।

केन्दीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि पंचायत राज दिवस पर सभी पंचायत प्रतिनिधियों को बधाई देते हुये कहा कि आज भारत के इतिहास का महत्वपूर्ण दिन है। देश की ढाई लाख पंचायतों के 31 लाख से ज्यादा पंचायत प्रतिनिधियों को भारत के ग्रामीण विकास के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराने का दिन है। उन्होंने कहा कि पंचायतें अब प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में सशक्त हो रही हैं। उन्होंने बताया कि 13 वें वित्त आयोग तक पंचायतों को केवल 60 हजार करोड़ रूपये मिलते थे अब 14 वें वित्त आयोग में पंचायतों को 2 लाख 292 करोड़ रूपये मिल रहे हैं। यह धनराशि पंचायतों के सशक्तिकरण और ग्रामीण विकास में खर्च हो रही है।

श्री तोमर ने कहा कि जल्दी ही हर गरीब का अपना मकान होगा। इस वर्ष एक करोड़ आवास बनाये जायेंगे। उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री चौहान को बधाई देते हुये कहा कि मध्यप्रदेश ने देश में सर्वाधिक मकान गरीबों को बना कर दिये हैं। उन्होंने 14 अप्रैल से 5 मई तक चलने वाले ग्राम स्वराज अभियान की जानकारी दी। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों से 2022 तक नये भारत के निर्माण में योगदान देने का आव्हान किया।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के रूप में देश को सक्षम नेतृत्व मिला है। उनका दिल हर पल भारत के लिये धड़कता है। उन्होंने भारत की शान गौरव और सम्मान बढ़ाया है। श्री चौहान ने कहा कि देश के संसाधनों पर पहला हक गरीबों का है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोई भी गरीब बिना मकान के नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि अक्टूबर 2018 तक हर घर में बिजली होगी। गरीबों के लिये 13 लाख 50 हजार मकान बनाये जा रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री द्वारा गरीबों के हित में लागू किये गये निर्णयों और कार्यक्रमों का उल्लेख करते हुये कहा कि उनके नेतृत्व में बनाये गये कार्यक्रमों को मध्यप्रदेश में तत्काल रूप से प्रभावित किया जाता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अब जनजातीय क्षेत्रों के बच्चे भी आईआईटी में पढ़ने जा रहे हैं। गरीब बच्चों के पहली से लेकर पीएचडी तक की पढ़ाई का खर्चा सरकार उठा रही है। अगले पाँच सालों में जनजातीय के विकास के लिये दो लाख करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे। उन्होंने रामनगर के ऐतिहासिक मोती महल के संरक्षण और जीर्णोद्धार करने की घोषणा करते हुये कहा कि प्राचीन विष्णु मंदिर के जीर्णोद्धार का काम भी शुरू किया जायेगा। उन्होंने कहा कि गोंड जनजातीय संस्कृति अध्ययन केन्द्र स्थापित किया जायेगा।

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान का डिजीटल लोकार्पण‍ किया। उन्होंने लोकल गर्वमेंट डायरेक्ट्री कोड का भी विमोचन किया। श्री मोदी ने नन्हीं बाई को जीवन ज्योति बीमा योजना के अंतर्गत दो लाख रूपये की सहायता राशि का चेक भेंट किया। प्रधानमंत्री ने ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार प्रदान किया।

श्री मोदी ने मनेरी में इन्डियन आयल दवा स्थापित होने वके एल पी जी  बॉटलिंग प्लांट का शिलान्यास किया। उन्होने राष्ट्रीय ई पंचायत पुरस्कार प्रदान किये और अपनी जिम्मेदारियो जे निर्वहन में सर्वश्रेष् प्रदर्शन करने वाली ग्राम पंचायतो को पुरस्कृत किया। प्रधानमंत्री ने  मध्यप्रदेश के जनजातीय विकास की पंचवर्षीय विकास कार्ययोजना स्वीकृत की। प्रारम्भ में प्रदर्शनी का अवलोकन किया। प्रधनमंत्री ने प्रारंभ में महात्मा गांधी और वीरांगना रानी दुर्गावती के चित्र पर माल्यार्पण कर उनका पुण्य स्मरण किया।

इस अवसर पर राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल, केनद्रीय पंचायत राज्य मंत्री श्री पुरूषोत्तम रूपाला, पंचायत मंत्री श्री गोपाल भार्गव, खादय मंत्री श्री ओम प्रकाश धुर्वे, राज्य सभा सदस्य सम्पतिया उइके, प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री राकेश सिंह, सांसद श्री फग्गन सिंह कुलस्ते, मंडला जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती सावित्री मरावी, श्री सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उदयोग राज्य मंत्री श्री संजय पाठक,और मंत्रिपरिषद के अन्य सदस्य, पंचायतों के प्रतिनिधि और बडी संख्या में पंच सरपंच उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)