राजिम मेले में अब नहीं चमकेंगे फ़िल्मी सितारे, मेले का नया नाम राजिम पुन्नी महोत्सव

  • राजिम मेले में अब फ़िल्मी सितारों की चमक-दमक ख़त्म

  • राजिम मेले का नया नाम राजिम पुन्नी महोत्सव

  • छत्तीसगढ़िया लोक परंपरा और कला-संस्कृति पर ज़ोर

छत्तीसगढ़ के पारंपरिक-ऐतिहासिक राजिम मेले में अब फ़िल्मी सितारों की चमक-दमक नहीं दिखेगी। छत्तीसगढ़ परंपरा को उसके मौलिक रूप में आगे बढ़ाने के लिए बघेल सरकार ने उसका नाम बदलने का भी फ़ैसला लिया है। राजिम मेले का नाम अब राजिम पुन्नी महोत्सव होगा। राज्य के धर्मस्व, पर्यटन और संस्कृति मंत्री ताम्रध्वज साहू ने इसकी घोषणा की है। संस्कृति मंत्री ने बताया कि वे इसके लिए अध्यादेश पर हस्ताक्षर कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि अब राज्योत्सव में फिल्मी सितारों के बजाय प्रदेश के कलाकार ही कार्यक्रम में प्रस्तुति देंगे। उन्होंने राजिम महोत्सव के लिए पुरी पीठाधीश्वर शंकराचार्य को भी निमंत्रण दिया है।

राजिम कुम्भ सालाना होने वाले कुंभ के नाम से भी मशहूर है। यहां हर साल माघ पूर्णिमा से महाशिवरात्रि तक पंद्रह दिनों का मेला लगता है। 2001 से राजिम मेले को राजीव लोचन महोत्सव के रूप में भी पहचान देने की कोशिश की गई है, लेकिन 2005 से इसे कुंभ के रूप में मनाया जाने लगा। छत्तीसगढ़िया लोक परंपरा और राज्य की कला-संस्कृति के साथ यहां के मूल निवासियों की जीवन का जीता-जागता स्वरूप राजिम अंतर्राष्ट्रीय मेले में दिखाई देता है। राजिम कुंभ मेले में शामिल होने के लिए देस-विदेश से लोग आते हैं, जिन्हें इस बार से फ़िल्मी सितारों के बिना छत्तीसगढ़ लोकरंग की नई तस्वीर देखने को मिलेगी

विवेक मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)