Tag Archives: top

आखिर देश को क्या हो गया है!

राजीव खण्डेलवाल ‘‘पुलवामा’’ में हुई बड़ी वीभत्स आंतकी घटना में 40 सैनिकों के शहीद हो जाने की प्रतिक्रिया स्वरूप पाकिस्तान में घुस कर बालाकोट में किये गये हवाई हमलों के द्वारा ‘‘जैश-ए-मोहम्मद’’के आंतकवादी कैम्प (प्रशिक्षण शिविर) को नष्ट करने के बाद सम्पूर्ण देश ने एक जुट होकर सेना व सरकार ... Read More »

कामकाजी महिलाओं की समस्याएं समाधान और विकल्प

अन्नपूर्णा वाजपेयी बदलते वक्त ने महिलाओं को आर्थिक, शैक्षिक और सामाजिक रूप से सशक्त किया है और उनकी हैसियत एवं सम्मान में वृद्धि हुई है. इसके बावजूद अगर कुछ नहीं बदला तो वह है महिलाओं की घरेलू जि़म्मेदारी. खाना बनाना और बच्चों की देखभाल अभी भी महिलाओं का ही काम ... Read More »

डिजिटल मीडिया और हिंदी : संभावनाएँ और चुनौतियाँ

  ( देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के अंतर्गत पत्रकारिता एवं जनसंचार अध्ययनशाला में दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी ) इंदौर। पत्रकारिता के भी दो पहलू होते हैं एक सकारात्मक दूसरा नकारात्मक और वर्तमान समय में डिजिटल मीडिया ने पत्रकारिता को सुदृढ़ किया है। पत्रकारिता सुगंध की तरह होना चाहिए ना की दुर्गंध ... Read More »

कांग्रेस का घोषणा-पत्र : क्या “जनआवाज़” और क्या निभाएंगे ?

राकेश दुबे “जनआवाज” “हम निभाएंगे शीर्षक से कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया । राहुल गांधी का कहना है कि यह घोषणापत्र बंद कमरे में बैठकर नहीं बल्कि देश के कोने-कोने में बैठे लाखों लोगों से बातचीत के आधार पर तैयार किया गया है। अब सवाल से ज्यादा ... Read More »

स्वास्थ्य के लिए चुनौती बन रही हैं धूल भरी आंधियां

दिनेश सी. शर्मा Twitter handle: @dineshcsharma (इंडिया साइंस वायर): पिछले साल मई के महीने में एक के बाद एक लगातार तीन धूल भरी आंधियों ने दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई हिस्सों में कहर बरपाया था। अब एक अध्ययन में पता चला है कि इन आंधियों से जन-धन का नुकसान ... Read More »

कन्हैया : छात्र राजनीति में कलुषित मानसिकता का दावानल

डा. रवीन्द्र अरजरिया भारत गणराज्य को टुकडों-टुकडों में विभक्त करने का मंसूबा पालने वाले कन्हैया कुमार को भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी ने न केवल बेगूसराय से लोकसभा की चुनावी जंग में उतारा बल्कि अपने सिद्धान्तों से भी समझौता करते हुए पहली बार क्राउड फंडिग को धन संग्रह का हथियार भी बना ... Read More »

भारत में जोश पाकिस्तान बेहोश!

-ऋतुपर्ण दवे rituparndave@gmail.com पाकिस्तान के लिए गुजरे मंगलवार का सवेरा कालिख भरा था। शायद ही कभी भूल पाएगा। भले ही भारत के जवाब को कुछ भी नाम दिया जाए लेकिन यह सच है कि पाकिस्तान बेहद घबराया हुआ दिख रहा है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने भी हाल ... Read More »

“गुटखा-खैनी के नियंत्रण के लिए राष्ट्रीय मिशन जरूरी”

उमाशंकर मिश्र Twitter handle :@usm_1984 (इंडिया साइंस वायर) :गुटखा और खैनी जैसेतम्बाकू उत्पादों का सेवन करने वाले दुनिया के 65 प्रतिशत लोग भारत में हैं और यहां मुंह के कैंसर के 90 प्रतिशत मामलेइन उत्पादों के उपयोग की वजह से ही होतेहैं। इसीलिए तंबाकू उपयोग के नियंत्रण के लिए एक ... Read More »

सपा-बसपा के विजयी प्रत्याशियों के समर्थन पर आश्वस्त है कांग्रेस

डा. रवीन्द्र अरजरिया चुनावी समर में सभी राजनैतिक दल अपने तरकश के तीरों को नये अंदाज में चलाने लगे हैं। प्रतिव्दंदियों के वार पर प्रतिवार करने की कोशिशें तेज होने लगीं हैं। मोदी के विपक्षी अपने का संदेशों में राष्ट्र को तानाशाही से बचाने और विकास पथ पर ले जाने ... Read More »

नवसंवत्सर : विक्रमसंवत और वासंतिक नवरात्र

 अन्नपूर्णा बाजपेयी ‘अंजू’ जब कड़ाके की ठंड समाप्त होने लगती है तब कुछ गुलाबी सर्दियों के साथ ही आता है बसंत और ले आता है नैसर्गिक सुंदरता, साथ ही त्योहारों की भरमार। हवाएँ रूमानी हो जाती हैं,चारों ओर रंग, सुगंध,महुए की गंध, दहकते टेसू, महकते गुलाब, अधपकी गेहूं की बालियाँ, ... Read More »