आपका बैठने का तरीका बताता है आपका मिजाज !

पंडित विशाल दयानन्द शास्त्री

 इस दुनिया में हर किसी बाद का कोई न कोई मतलब अवश्‍य होता है, अक्‍सर देखा जाता है, कि लोगों के बैठने के तरीकें से लोग हैरानी में पड़ जाते है, पर आपको बता दें कि इस बैठने के तरीके से आप सामने वाले व्‍यक्ति के स्‍वभाव को जान सकते है, आज हम बैठने के तरीकों से व्‍यक्तियों के स्‍भाव के संबंध में जानकारी देने वाले है, जिसे जानकर हैरानी में पड़ जायेगें।

दरअसल इस बात से तो सभी लोग अवगत ही होगें कि बॉडी लैंग्वेज से आपके बारे में कई चीजें पता हो सकती है, आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी कि “फर्स्ट इम्प्रेशन इज लास्ट इम्प्रेशन”. कई बार ऐसा होता है, जब किसी को देखकर या उसके हाव भाव को पढ़कर हम उसके संबंध में अपनी राय बना लेते हैं, खासकर इंटरव्यू या फर्स्ट मीटिंग के दौरान बॉडी लैंग्वेज पर विशेष ध्यान दिया जाता है। आपको बता दे कि बॉडी लैंग्वेज पर ही अन्‍य लोग हमेशा ही जज करते है। हालांकि आम व्‍यक्तियों का इसपर कोई विशेष ध्‍यान नही अग्रसरित होता है, आज हम इसी संबंध में कुछ खास जानकारी देने वाले है।

आपकी जानकारी के लिये बता दे कि बैठने के तरीकों से भी लोगों के स्‍वभाव के बारे में पता किया जा सकता है, ** जो लोग इस तरह बैठते है, वे लोग जिन्‍दगी में आगे बढ़ना जानते है, ऐसे लोगों को लगता है, की जीवन में आने वाली समस्‍याओं को नजर अंदाज कर देगें, तो समस्‍या खुद ब खुद दूर हो जायेगी, इन लोगों में एक और खासियत यह भी होती है, कि ये कुछ भी बोलने से पहले सोचते नही है, जो मन में आता बस बोल देते है, जिसका अहसास उन्‍हे बाद में होता है, तब उन्‍हें पचताना पड़ता है, वैसे देखा जाये तो ये लोग स्‍वभाव के अच्‍छे होते है, और दूसरों के साथ अच्‍छी तरह से घुल मिल जाते है, ऐसे लोगों के बहुत से दोस्‍त भी होते है, और लोग इनके साथ उठना बैठना पसन्‍द करते है। इनकी एक सबसे बुरी आदत ये होती है, कि ये कहते पहले है, और उसे करने के संबंध में बाद में सोचते है। उपरोक्‍त के अतिरिक्‍त कुछ और बैठने के तरीके है, जो बताते है, कि उनका स्‍वभाव कैसा हो सकता है।

पैरों को मोड़कर बैठना (क्रॉस लेग)—
अक्सर देखा गया है कि कुछ लोग फर्श पर पैरों को मोड़कर बेठते हैं। आप भी ऐसे बैठते हैं तो आप स्वभाव से खुले विचारों वाले व लापरवाह व्यक्ति है। आपका यह बैठने का तरीका दर्शाता है कि आप शारीरिक रूप से नये विचारो वाले है। इस तरह का अंदाज़ बताता है कि आप भावमात्मक रूप से बहुत कमजोर है। पैरों को मोड़ कर बैठने वाले व्यक्तियों की यह प्रकृति दर्शाती है कि वे ओपन माइंडेड ओर लापरवाह होने के साथ साथ पॉजिटिव सोच के व्यक्ति होते है। ऐसे लोग हमेशा एक नई सोच के साथ क्रिएटिव माइंड इस्तेमाल करते हैं। वे अपनी जिंदगी खुले विचारों के साथ जीना पसंद करते हैं और उन्हें घूमना फिरना बहुत पसंद होता है।

टांगों को खोलकर–
ऐसा माना जाता है कि बैठने का तरीका आपके स्वभाव को बताता है। तो जो लोग अपनी जांघों को जोड़कर और टांगों को खोल कर बैठते हैं उनका प्रयास हमेशा जिंदगी में आगे बढ़ने का होता है। ऐसे लोगों की सोच होती है कि यदि जिंदगी में परेशानियों को इग्नोर किया जाए तो वे आपसे हमेशा दूर रहेंगी। लेकिन ऐसे लोग बिल्कुल सही भी नहीं होती है। इस तरह बैठने वाले लोग हमेशा अपनी गलती दूसरों पर डालने में विश्वास रखते हैं। वह इसी कोशिश में लगे रहते हैं कि उन पर कोई परेशानी ना आए और अपनी सोच को दूसरों पर थोपने का पूरा प्रयास करते हैं।

पैरों को अंदर मोड़ कर बैठने वाले—
ऐसे लोगों को मिस्टर परफेक्शनिस्ट के नाम से भी जाना जाता है। किस तरह बैठने वाले लोग हमेशा अकेले रहना पसंद करते हैं और हर चीज में परफेक्शन चाहते हैं। पैरों को अंदर मोड़ पर बैठने वाले लोग आरामदायक जीवन की इच्छा रखते हैं। वे चीज पर गहन विचार करने के बाद ही निष्कर्ष तक पहुंचते हैं। वेअपने आसपास की चीजों के पर्फेक्ट करने के लिए हर तरह की कोशिश करते हैं।

जांघों और पैरों को सीधे जोड़कर बैठने वाले–
ऐसे लोग ओपन माइंडेड होने के साथ-साथ क्लोज माइंडेड के होते हैं क्योंकि ऐसे लोग जितने अपने विचारों को खुला रखते हैं उतना ही दूसरों के सामने खुद को बयां नहीं कर पाते हैं। वे समय के पाबंद होते हैं इसलिए अपना हर काम समय पर करने में विश्वास रखते हैं। किसी के सामने अपनी भावनाएं व्यक्त ना करने की वजह से कभी-कभी परेशानी में भी आ जाते हैं।

पैरो को टेड़ा करके बैठने वाले—
ऐसे किस्म के लोग थोड़े आलसी ओर समय पर निर्भर रहने वाले होते है क्युकी ऐसे लोगों का मानना हित है कि उन्हें किसी चीज़ को पाने के लिए मेहनत करने की आवश्यकता नही वह चीज़ उन्हें खुद ब खुद मिल जाएगी। जिस चीज़ की चाह उनको हो उसे पाना ही उनका लक्ष्य होता है क्युकी वे बेहद जिद्दी किस्म के लोग होते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)