Monday , 28 September 2020
समाचार

पत्रकारों की सुरक्षा का दायित्व सरकार और संगठन का

Spread the love

खजुराहों में आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय अधिवेशन का हुआ समापन

भोपाल। विश्व विख्यात पर्यटन स्थल खजुराहों में 26 और 27 अगस्त को आईएफडब्ल्यूजे की 130वीं मीट का आयोजन हुआ। जिसकी शुरुआत पूर्व सांसद एवं प्रधानमंत्री योजना प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष जीतेन्द्र सिंह बुन्देला के मुख्य आतिथ्य एवं आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकाजुर्निया की अध्यक्षता में हुई। इस अवसर पर खजुराहों की नगरपालिका अध्यक्ष कविता रानी सिंह, आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पाण्डे, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कृष्णमोहन झा और हेमंत तिवारी विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजूद थे। इस सुअवसर पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए बुन्देला ने कहा कि यह मेरा परम सौंभाग्य है कि आज इतने बड़े मंच में मुझे शामिल होने का अवसर प्राप्त हुआ। मैं आप सभी के द्वारा प्राप्त सम्मान से अभिभूत हूं, मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि आपके द्वारा बैठक में जो भी निर्णय लिया जाएगा उससे मैं माननीय प्रधानमंत्री को अवगत कराउंगा। आईएफडब्ल्यूजे वर्किंग कमेटी को संबोधित करते हुए वरिष्ठ राजनैतिक विश्लेषक और आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कृष्णमोहन झा ने कहा कि पत्रकारों का कार्य सेना के सैनिकों से कम नहीं है। आजादी के पहले और आजादी के बाद पत्रकारिता ही है जिसने समाज के लिए आइने का कार्य किया है। चाहे चारा घोटाला हो, हवाला कांड हो, बफोर्स कांड हो या कोई भी बड़ा घोटाला वह पत्रकारों की मेहनत का परिणाम है। अपनी जान की बाजी लगाकर सत्य को सामने लाने में पत्रकार कभी भी पीछे नहीं रहा। उसे कभी भी परवाह नहीं रही कि उसकी सुरक्षा के लिए सरकार और समाज क्या सोचते है। यह हमारा पत्रकार संगठनों का कार्य है कि पत्रकार और उसके परिवार को पूरी सुरक्षा सरकार से मुहैया कराई जाये। हम लगातार सरकार से पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग कर रहे है। मैंने हाल ही में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी चौहान के साथ भारत के गृह मंत्री माननीय राजनाथ सिंह जी से मुलाकात कर पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग की थी। जिस पर उन्होंने मुझे आश्वासन दिया था की जल्द इस दिशा में कार्य किया जाएगा। उन्होंने संगठन को इस बात से भी आश्वस्त कराया था कि भारत सरकार पत्रकारों की सुरक्षा के लिए चिंतित है और हम सदैव आपके साथ है। मध्यप्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी केन्द्रीय गृह मंत्री के समक्ष पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर चिंता व्यक्त की थी। आज इस मंच से एकबार फिर सरकार से हम पत्रकार सुरक्षा कानून को जल्द से जल्द लागू करवाने की मांग करते है। देश के प्रमुख पर्यटन स्थल खजुराहों में देश के 16 राज्यों के पत्रकार साथियों की मेजबानी का अवसर मिला। यह हमारे प्रदेश के लिए गौरव की बात है। हमारे 70 वर्षीय प्रदेश संयोजक अवधेश भार्गव जी की रात दिन की मेहनत का परिणाम है कि हम इतना सफल आयोजन कर सके, लेकिन आदरणीय भार्गव जी के लम्बे अनुभवों का लाभ लेकर हमारी पूरी टीम इस आयोजन को सफल बना सकी। श्री झा ने कहा कि हमारा संगठन भारत के संविधान निर्माण के तत्काल बाद बना। 28 अक्टूबर 1950 को स्थापित यह संगठन देश का सबसे बड़ा और एक मात्र सबसे पुराना संगठन है। चाहे प्रेस एक्ट की बात हो या प्रेस काउंसिल निर्माण की आईएफडब्ल्यूजे की भूमिका रही है। पत्रकारों के लिए श्रम कानून, वेज बोर्ड और मजीठिया की लड़ाई भी हमारे संगठन ने ही लड़ी है। अब हम लम्बे समय से मजीठिया काउंसिल के निर्माण की मांग कर रहे है। हम अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकाअजुर्निया, राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पाण्डे, वरिष्ठ उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी, विशिष्ठ अतिथि कुमार शर्मा, इशमधु तलवार जी के नेतृत्व में राष्ट्रपति जी से मुलाकात करेंगे और पत्रकार सुरक्षा कानून और मीडिया आयोग के निर्माण की मांग करेंगे। वर्किंग कमेटी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के पत्रकारों के लिए किए गए उपलब्धिजनक कार्यों का उल्लेख किया। इस अवसर पर राजस्थान के प्रख्यात पत्रकार इशमधु तलवार ने भी अपनी बात रखी और अगली वर्किंग कमेटी की बैठक राजस्थान में आयोजित करने की घोषणा की। आईएफडब्ल्यूजे के राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पाण्डे ने भी संगठन के लेखा जोखा के साथ भविष्य की रणनीति के बारे में विस्तार से चर्चा की और इस सफल आयोजन के लिए मध्यप्रदेश के संयोजक अवधेश भार्गव और उनकी पूरी टीम को बधाई दी।

इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जनर्लिस्ट के राष्ट्रीय अधिवेशन में भाग लेते हुए मध्य प्रदेश की राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव  ने कहा कि भारत के विभिन्न राज्यों से आए पत्रकारों का मैं खजुराहो की भूमि में स्वागत करती हूं. जनता द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधि के कार्यों को वस्तुत: पत्रकार ही जनता तक पहुंचाते है। उन्होंने कहा कि मैं पत्रकारों की समस्याओं को भारत सरकार के सामने रखूंगी जो कुछ भी मेरे लायक होगा उसे पूरा करने का प्रयास करूंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)