राष्ट्रीय प्रदर्शनी में दिखे देशभर से आये नवोन्मेषी छात्रों के नवाचार

नई दिल्ली (इंडिया साइंस वायर): भारत सरकार की इंस्पायर अवार्ड्स – मानक (मिलियन माइंड्स ऑगमेंटिंग नेशनल एस्पिरेशंस एंड नॉलेज) परियोजना के अंतर्गत आयोजित राष्ट्रीय प्रदर्शनी में देशभर से आये नवोन्मेषी छात्रों के विज्ञानएवंप्रौद्योगिकीआधारितनवाचार देखने को मिल रहे हैं।युवा पीढ़ी में नवोन्मेषी अभिरुचि को प्रोत्साहित करने के लिए यह परियोजनाविज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) और नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (एनआईएफ) द्वारा संचालित की जा रही है।

इंस्पायर अवार्ड्स ‘मानक’परियोजना के अंतर्गत वर्ष 2020-21 के दौरान देशसभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से छात्रों के कुल 6.53 लाख नवोन्मेषी आइडिया प्राप्त हुए थे, जिनमें से 556 छात्रों के आइडिया राष्ट्रीय स्तरीय प्रदर्शनी के लिए चयनित किए गए हैं। प्रगतिमैदान, नई दिल्ली स्थित भारतीयव्यापारसंवर्धनसंगठन(आईटीपीओ) में यह दो दिवसीय प्रदर्शनी 14-15 सितंबर को आयोजित की गई है।

यह प्रदर्शनी अपने आप में अनूठी है, क्योंकि अपने उद्देश्य के साथ-साथ यह नवाचारों की विविधता और भौगोलिक संतुलन का प्रतिनिधित्व करती है। बुधवार को प्रदर्शनी का उद्घाटन विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के वरिष्ठ सलाहकार डॉ अखिलेश गुप्ता ने किया, और देशभरसे आए छात्रों के साथ बातचीत की, जो अपने नवाचारों को प्रदर्शित कर रहे हैं। छात्रों ने डीएसटी अधिकारियों के साथ-साथ आम लोगों कोअपने नवाचारों के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा जारी वक्तव्य में बताया गया है कि प्रदर्शनी में प्रदर्शित किए जा रहे नवाचार राष्ट्रीय प्राथमिकताओं को प्रतिबिंबित करते हैं।इन नवाचारों में दिव्यांगों एवं स्वच्छता से संबंधित प्रौद्योगिकियों के साथ-साथ स्थानीय एवं दैनिक आवश्यकताओं से जुड़ी तकनीकें प्रमुखता से शामिल हैं। इनमें से कुछ डिजिटल प्रौद्योगिकी से संबंधित नवाचार हैं, जो डिजिटल अर्थव्यवस्था में योगदान दे सकते हैं।

इस अवसर पर,इंस्पायर अवार्ड्स ‘मानक’परियोजना की प्रमुख, एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ नमिता गुप्ता; एनआईएफ के निदेशक डॉ विपिन कुमार; विज्ञान और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग में वैज्ञानिकडॉ संदीप बंसल; राज्य/केंद्र शासित प्रदेश एवं जिलों के अधिकारी,तथा छात्रों के साथ उनके शिक्षक मौजूद थे।

सफलतापूर्वक शीर्ष 60 में जगह बनाने वाले छात्रों को 16 सितंबर 2022 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और प्रौद्योगिकी; राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पृथ्वी विज्ञान; राज्य मंत्री पीएमओ, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष; डॉ जितेंद्र सिंह द्वारा पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।(इंडिया साइंस वायर)

Check Also

Durga Bhabhi

14 अक्टूबर 1999 सुप्रसिद्ध क्राँतिकारी दुर्गा भाभी का गुमनामी में निधन

अंग्रेजो की आँखों के सामने से भगतसिंह और राजगुरू को निकाला, गवर्नर हैली को गोली …

Leave a Reply