Friday , 17 September 2021
समाचार

आयुर्वेद और कॅरोना का सम्बन्ध

Spread the love

अनुभूति चौहान

आयुर्वेद — हमारी आयु व स्वास्थ्य तब हमारे व्यवहार पर निर्भर करता है l हम क्या खाते हैं? कब सोते हैं? कब उठते हैं?  अर्थात जो जीवन शैली हम अपनाते है l

वात – वातावरण कैसा ? कितनी हरियाली आसपास है? कितनी ऑक्सीजन हम ग्रहण करते हैं? श्वास प्रणाली भी वैसे ही कार्य करती है l

कफ – उसी प्रकार से हमारे शरीर में कफ निर्मित होता है अर्थात वात पित्त और फिर कफ

अग्नि तत्व – ज्योतिष विज्ञान के अंतर्गत भी हमारे शरीर में अग्नि तत्व और जल तत्व विराजमान होते हैं जो हमारे जीवन शैली से निर्धारित भी होते हैं l

धर्म शास्त्रों में आरोग्य – अर्थात रोग रहित शरीर- आरोग्य शरीर अपवित्र चीजों का नाश हो, पवित्र चीजों का
आचरण । करोना से बचाव के आयुर्वेदिक उपचार –  कॅरोना से बचाव के लिए लोग अब घरों में आयुष काढ़ा बना रहे हैं एक कप पानी में चार तुलसी के पत्ते ,दो काले मिर्च, दालचीनी और मुनक्का डालकर उबालें। ठंडा करके गुड या शहद डालें हल्दी का दूध भी पीना चाहिए। नाक में तेल डालें। तिल के तेल से कुल्ला करें। ऐसे मुंह में संक्रमण होने का खतरा कम रहता है।

संक्रमण रोगों के लिए मौसम, क्षेत्र ,शरीर, वायरस या बैक्टीरिया एवं पोषक तत्व समेत चार कारक आवश्यक है। हमें सबसे अधिक ज्ञान अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर देना चाहिए। इसके लिए आयुर्वेद में गिलोय ,तुलसी, अश्वगंधा, शतावरी, बला, कालमेघ आदि अनेक प्रभावी औषधियां उपलब्ध है इनका प्रयोग नियमित रूप से करना ।

बदलते मौसम में सर्दी-जुकाम जैसे सामान्य लक्षणों की दशा में सुबह थोड़ा अदरक, 10 तुलसी के पत्ते, पांच काली मिर्च, थोड़ी दालचीनी, बड़ी इलायची को उबालकर आधा रह जाने पर सुबह-शाम इनका सेवन करना चाहिए।

खांसी होने पर सीतोपलादी चूर्ण एक चम्मच लेना चाहिए। साथ में लवगधी वटी की 5 गोलियां चूसनी चाहिए। शरीसादी काढ़े का प्रयोग करना चाहिए। इससे न केवल सर्दी, खांसी, जुकाम के तीर्व लक्षणों में सुधार होगा अपितु कॅरोना से प्रभावित होने वाले अंगों वे फेफड़ों में भी सुधार होगा । कॅरोना जैसे संक्रमण से बचाव के लिए नीम की पत्तियां बड़ी गुणकारी होती हैं। प्रतिदिन घर में नीम की पत्ती, गूगल, राई, अगुरु सरसो, लोबान, कपूर  आदि से बनी धूप का हवन करें जिससे हानिकारक पोधोजन्स से घर के वातावरण  से दूर रखा जा सके।

सयंत रखें खान-पान – ठंडी चीजों से बिल्कुल दूर रहे हैं। हरी सब्जियां में आसानी से पचने वाली चीजों का सेवन करें। स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें बार बार हाथ धोने तथा सैनिटाइजर का प्रयोग करें जिससे हम कॅरोना के संक्रमण से बचे रहे।

लेखिका  (MSC-B.ed, MPhil), पूर्व सह-अध्यक्ष, महिला फुटबॉल दिल्ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)