Saturday , 28 November 2020
समाचार

“विश्व पर्यावरण दिवस-5 जून” को संघ के स्वयंसेवक बनायेंगे 70,000 हरित घर !

Spread the love

स्पंदन फीचर्स,  नई दिल्ली  :  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ  के स्वयंसेवक अब पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में अहम भूमिका का निर्वाह कर रहे हैं । हाल ही में संघ के स्वयंसेवकों ने पर्यावरण संरक्षण हेतु पर्यावरण गतिविधि की शुरुआत की है । इस गतिविधि की शुआत देशभर में पर्यावरण अनुकूल ‘हरित गृह’ बनाने की शपथ के साथ होगा ।  उल्लेखनीय है कि दुनिया भर में 5 जून पर्यावरण दिवस के रूप में आयोजित किया जाता है । इस दिन दुनिया भर के पर्यावरण प्रेमी सरकारी और गैरसरकारी संस्थाएं विभिन्न प्रकार की गतिविधियां करते हैं। इसी सिलसिले में आर.एस.एस. ने अपने स्वयंसेवकों से पर्यावरण के लिए पहल और प्रयोग करने का आह्वान किया है ।

पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के राष्ट्रीय सह संयोजक राकेश जैन के अनुसार, – विश्व पर्यावरण दिवस पर 70000 हरित घर बनाने का आह्वान किया गया है । इसके अंतर्गत पर्यावरण प्रेमी पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रतिज्ञा लेंगे l प्रतीज्ञा के पश्चात् प्राथमिक कार्य यह रहेगा कि उस विशेष घर को सम्पूर्ण पर्यावरण अनुकूल घर बनाने के लिए निरंतर प्रयास करने होंगे। हरित घर के लिए प्रतिबद्ध परिवारों को जल, अपशिष्ट, ऊर्जा, रसोई की बगिया जैसे क्षेत्रों में आने वाली समस्याओं  का समाधान करना ,पक्षियों तथा अन्य प्राणियों की देखभाल करना जैसे विषयो पर कार्य करना होगा।

श्री जैन के अनुसार, इन उपायों से प्रकृति के सीमित संसाधनों का सयंमित उपयोग करके पर्यावरण को संरक्षित किया जा सकता है । यदि हमारे राष्ट्र के नागरिक  हरित घर के लिए बनाये उपायों को अपनाते हैं तो हम भावी पीढ़ी के लिए पर्याप्त पर्यावरण की संपदा को संरक्षित कर सकेंगे।
पर्यावरण अनुकूल हरित गृह के लिए निम्न पाँच बिन्दुओं पर कार्य करना है –

▪️जल संरक्षण/ घर का पानी घर में /वर्षा जल संरक्षण प्रणाली का प्रयोग करना, उपयोग में लिए  पानी का पुनः उपयोग करना, नलों के मुहानो पर जाली का उपयोग करना।

▪️ऊर्जा संरक्षण/सौर ऊर्जा का उपयोग करना, सौर पैनल स्थापित करना,सोलर हीटर लगाना, एलईडी बल्ब का प्रयोग।

▪️घर का कचरा घर में/ रसोई की बगिया/ सूखे ,गीले और चिकित्सीय अपशिष्ट को विभाजित करके उनका पुनः उपयोग करना जैसे गीले अपशिष्ट से रसोई की बगिया के लिए खाद बनाना, अनुपयोगी एवं पुनः उपयोग योग्य अपशिष्ट को बेचना।

▪️पक्षियों और जानवरों के लिए जल तथा भोजन की व्यवस्था,पक्षियों के लिए चुग्गाघर स्थापित करना और अन्य उपाय/प्रयोग  जो प्रकृति हित हेतु किये जा सकें।

▪️घर में बगीचे की अनिवार्यता, स्थानाभाव की समस्या के समाधान हेतु गमलों में कम से कम पाँच उपयोगी अथवा औषधीय पौधों को लगाना, घरेलु आवश्यकताओं के अनुसार सब्जियां उगाना।
पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के द्वारा शपथ के लिए
 वेबसाइट https://paryavaransanrakshan.org/ पर विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2020 तक पंजीकरण भी कर सकते है

                                                                                       

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)