Monday , 29 November 2021
समाचार

देश के साथ मध्यभारत प्रान्त में भी बढ़ रहा है संघ कार्य : अशोक पांडेय

Spread the love

भोपाल, २४ मार्च (विसंकें) l राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक 19-21 मार्च को कोयम्बटूर में सम्पन्न हुई l इस संबंध में आज दोप. १२:३० बजे विश्व संवाद केंद्र में एक प्रेस वार्ता आयोजित की गई I पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए मध्यभारत प्रान्त के प्रान्त सह संघचालक श्री अशोक पांडेय जी ने बताया कि प्रतिनिधि सभा में 11 क्षेत्र, 42 प्रान्तों से 1396 प्रतिनिधियों ने भाग लियाl संघ की निर्णय लेने वाली सर्वोच्च इकाई “अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा” का विधिवत शुभारंभ 19 मार्च, 2017 को प.पू. सरसंघचालक डॉ. मोहन जी भागवत तथा सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने कियाl श्री अमृता विश्व विद्यापीठम, कोयंबटूर (तमिलनाडु) के परिसर में आयोजित तीन दिवसीय प्रतिनिधि सभा बैठक के दौरान देश व समाज से जुड़े अहम विषयों पर चर्चा हुईl साथ ही प्रांत अनुसार संघ कार्य एवं सम वैचारिक संगठनों के कार्यों को देशभर से आये प्रतिनिधियों के समक्ष प्रस्तुत किया गया और आगामी कार्य योजना पर चर्चा भी हुईl इसके साथ ही पश्चिम बंगाल में हिन्दू समाज पर हो रहे अत्याचार और निरंतर बढ़ रहे जिहादी तत्वों पर प्रमुखता से चिंता जताते हुए प्रतिनिधि सभा ने प्रस्ताव पारित किया हैl प्रतिनिधि सभा के प्रतिनिधियों को पूज्य आनंदमयी माँ का आशीर्वचन भी सुनने को मिला l सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत कियाl

श्री पांडेय जी ने कहा कि देशभर में पिछले वर्ष 56,859 शाखाएं थी, जो इस वर्ष बढ़कर 57,185 हो गई हैं l इनके अलावा 14,896 साप्ताहिक मिलन और 8,226 मासिक मिलन चल रहे हैंl पिछले वर्ष की तुलना में साप्ताहिक मिलानों में 1101 मिलन की वृद्धि हुयी है l वहीँ, शिक्षा वर्गों में शामिल होने वाले शिक्षार्थी स्वयंसेवकों की संख्या में भी उल्लेखनीय वृद्धि हुई है l पूरे देश में इस वर्ष संघ के प्राथमिक शिक्षा वर्ग में एक लाख से अधिक शिक्षार्थियों ने भाग लियाl  इसी प्रकार प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले 20 से 25 दिन के संघशिक्षा वर्गों में लगभग 26,000 शिक्षार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त कियाl

मध्यभारत में संघ कार्य : प्रान्त में वर्ष 2015 में 1,326 शाखाएं थीं, जो वर्ष 2016 में बढ़कर 1,439 हो गयीं हैंl बाल कार्य में गुणात्मकता और शाखाओं की वृद्धि की दृष्टि से मध्यभारत प्रांत में विशेष प्रयास किया गयाl 24 से 27 नवंबर, 2016 को गुना में आयोजित प्रांतीय शिविर में 30 जिलों के 1,876 बाल स्वयंसेवक सहभागी हुएl ग्वालियर महानगर विभाग (ग्वालियर, लश्कर और डबरा) की सभी 137 बस्तियों में से 136 बस्तियां शाखायुक्त हो गई हैंl महाविद्यालयीन विद्यार्थी भी बड़ी संख्या में संघ के संपर्क में आकर संघकार्य से जुड़ रहे हैंl ज्वाइन आरएसएस के माध्यम से भी बड़ी संख्या में लोग संघ से जुड़ रहे हैं, जिनके प्रशिक्षण वर्ग भी संपन्न हुए हैंl

मध्यभारत में इस वर्ष सामाजिक समरसता के लिए विशेष प्रयास किये गएl इस सन्दर्भ में मध्यभारत प्रांत में मुरैना में विभाग के खंड स्तर पर समरसता विषय में कार्य करने वाले कार्यकर्ताओं की बैठक उल्लेखनीय हैl इस बैठक में 333 ग्रामों से 3623 और 99 नगरीय बस्तियों से 1706 कार्यकर्ता उपस्थित रहेl इस बैठक में सरकार्यवाह श्री भैय्या जी जोशी भी उपस्थित रहेl

मध्यभारत प्रान्त में वर्ष 2016-17 में प.पू. सरसंघचालक श्री मोहन भागवत का प्रवास भी उल्लेखनीय हैl उनके प्रवास के दौरान बैतूल जिले में हिन्दू सम्मेलन, बनखेडी में ग्राम समिति सम्मलेन और भोपाल में श्रम साधक सम्मलेन प्रमुख आयोजन हुएl जनजाति बाहुल्य जिले बैतूल में सम्मेलन के पूर्व जलसंधारण, ग्राम स्वच्छता, समरसता बैठकें, स्वास्थ्य शिविर, गौ पूजन, युवा सम्मेलन, भारत माता की आरती इत्यादि कार्यक्रम संपन्न हुएl बैतूल जिसे के सभी 1468 ग्रामों तक पहुँचकर 4 लाख लोगों से संपर्क किया गयाl परिणामस्वरूप 08 फरवरी को विराट हिन्दू सम्मेलन में एक लाख से अधिक लोग सहभागी हुएl जबकि बनखेडी में लगभग 8 हजार चयनित ग्रामवासी शामिल हुएl वहीँ, भोपाल में सम्पन्न हुए श्रम साधक सम्मलेन ने श्रम से जुड़े करीब 30 हजार श्रम साधक शामिल हुएl

पश्चिम बंगाल में हिंसा पर प्रस्ताव पारित :

दशकों से वामपंथी हिंसा का शिकार बना पश्चिम बंगाल सत्ता परिवर्तन के पश्चात् शांति और सुव्यवस्था की अपेक्षा कर रहा थाl लेकिन सत्ता परिवर्तन के बाद हिन्दू समाज पर अत्याचारों की घटनाएं बढ़ी हैंl मालदा एवं धूलागढ में सत्ता प्रोत्साहित जेहादी हिंसाचार के कारण हिन्दू समाज को पलायन के लिए विवश होना पड़ा हैl सभा में ‘पश्चिम बंगाल में बढ़ती जिहादी गतिविधियां – राष्ट्रीय हितों की चुनौतियाँ’ शीर्षक से प्रस्ताव पारित किया गयाl

केरल में हिंसा पर चिंता :

केरल में संघ और सम वैचारिक संगठन के कार्यकर्ताओं के विरुद्ध हो रही हिंसा पर भी प्रतिनिधि सभा में चिंता व्यक्त की गयीl इस हिंसा के विरोध के में देशभर में 583 स्थानों पर धरने प्रदर्शन हुए, जिनमें 32 हजार महिलाओं सहित 3 लाख 72 हजार नागरिकों ने आक्रोश जतायाl

अन्य उल्लेखनीय विषय :

संघ के स्वयंसेवकों द्वारा देश में लगभग डेढ़ लाख सेवाकार्य किये जा रहे हैंl समग्र समाज तक राष्ट्रीय विचार का साहित्य पहुंचे, इसके लिए भी विशेष प्रयास किये गएl देशभर में 31 हजार 622 कार्यकर्ताओं ने 1 करोड़ 40 लाख रुपये की 6 लाख 17 हजार पुस्तकों की बिक्री कीl वहीँ, पिछले वर्ष देश में नारद जयंती के 187 कार्यक्रम हुए, जिनमें 6 हजार 137 पत्रकार और 20 हजार से अधिक नागरिक शामिल हुएl नारद जयंती के कार्यक्रमों में 800 से अधिक पत्रकारों को सम्मानित भी किया गयाl

तमिलनाडु में संघ के पथ संचलन के कार्यक्रम भी उल्लेखनीय हैंl क्योंकि, वहां पिछले 6 वर्ष से संघ के पथ संचलन पर प्रतिबन्ध सरकार ने प्रतिबन्ध लगा रखा थाl मद्रास न्यायालय की अनुमति प्राप्त होने पर पूरे प्रान्त में निकले 19 पथ संचालन कार्यक्रमों में 11 हजार 556 संघ स्वयंसेवक सहभागी हुएl

इसके अलावा प्रतिनिधि सभा की बैठक में सर्जिकल स्ट्राइक का निर्णय लेने पर सरकार की सामरिक कुशलता की सराहना की और इस साहसिक कार्य के लिये सैनिक तथा अधिकारियों का अभिनंदन किया गयाl पाकिस्तान के विरोध में अंतर्राष्ट्रीय जनमत बनाने में सफल भूमिका निभाने के लिए भी केंद्र सरकार की सराहना कीl विमुद्रीकरण का निर्णय को सभा ने केन्द्र सरकार का साहसिक निर्णय बतायाl कालाधन, जाली नोट, आतंकवादियों द्वारा धनशक्ति के बल पर निर्माण की जाने वाली समस्याओं के निदान की दिशा में उठाये गए इस कदम का अभिनंदन कियाl इसके साथ ही एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने की अंतरराष्ट्रीय उपलब्धि प्राप्त करने के साथ ही अन्तरिक्ष विज्ञान के जगत में विशिष्ट उपलब्धियां प्राप्त करने के लिए सभा ने इसरो के वैज्ञानिकों का अभिनन्दन किया हैl

पत्रकारों द्वारा राम मंदिर के संबंध में पूछे गए प्रश्नों के जवाब में उन्होंने कहा कि आप सभी पत्रकार हैं और बुद्धिजीवी हैं और अभी यह मामला उच्चतम न्यायलय के समक्ष है और उच्चतम न्यायलय का जो भी फैसला होगा हम उसका पालन करेंगे l गौ हत्या के संबंध में उन्होंने कहा कि संघ गौ हत्या का विरोध करता है l और इस प्रकार की गतिविधियों की निंदा करता है l केरल में हो रही हिंसा के सन्दर्भ में कहा कि संघ बल और हिंसा पर विश्वास नहीं रखता बल्कि प्रशासन और कानूनी प्रक्रिया पर विश्वास रखता है l

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तत्वाधान में बीते दिनों विभिन्न कार्यक्रमों के आयोजन किये गए जिनका उद्देश्य राष्ट्रहित और जनहित वाले कार्यों को प्रोत्साहन देना रहा है l

प्रेस वार्ता में मध्यभारत प्रान्त के प्रान्त सह संघचालक श्री अशोक पांडेय जी सहित संघ के क्षेत्र प्रचार प्रमुख श्री नरेन्द्र जी जैन, प्रांत प्रचार प्रमुख श्री दीपक जी शर्मा, विसंकें के अध्यक्ष श्री लक्ष्मेन्द्र माहेश्वरी एवं सचिव श्री दिनेश जैन मुख्य रूप से उपस्थित रहे l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)